Friday, January 11, 2013

छोटी कवितायें

डायरी के पुराने पन्नो में कुछ लफ्ज़ धुंधले हुए दिखते हैं जो अब पढने में नहीं आते .. पर ......... एक अक्स अभी भी दिखाई देता है उन धुंधले अक्षरों में साफ़ साफ़ उजला सा !!! ******************** जब मन पर छा जाता है अकेलापन और साँसे हो मद्धम तब कुछ लिख कर भावों से साँसे उधार ले लेती हूँ !! ***************** और भी छोटी छोटी बातें जल्द ही आने वाले संग्रह कुछ मेरी कलम से भी ..पढना न भूलें ...शुक्रिया :)

9 comments:

सदा said...

प्रतीक्षा है ....
सादर

Anju (Anu) Chaudhary said...

इंतज़ार रहेगा :)

sushma 'आहुति' said...

am waiting this book...

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया said...

प्रतीक्षा है रचना संग्रह की,,,

recent post : जन-जन का सहयोग चाहिए...

प्रवीण पाण्डेय said...

भाव संघनित होते रहें यूँ ही।

Vinay Prajapati said...

अति सुंदर कृति
---
नवीनतम प्रविष्टी: गुलाबी कोंपलें

दिगम्बर नासवा said...

प्रतीक्षा रहेगी ...
लोहड़ी की बधाई ..

Anonymous said...

kk

Anonymous said...

aap ne kis age se likhna suru kiya tha... can u tell me bde hi shej trek se aap baato ko khe deti hai such me aap lajwab hai ....... gud