Tuesday, April 25, 2017

उम्र के खत(अमृता प्रीतम)

अमृता प्रीतम के इन खतों को जब जब पढ़ा है लिखा है इन शब्दों ने उन दिलों को छुआ है जो जानते हैं कि असल में प्रेम के अर्थ क्या है ।हर बार इन खतों को पढ़ती हूँ और नए अर्थ पाती हूँ फिर आप सब के साथ सांझा कर देती हूँ । हर पढने वाले को यह लिखे लफ्ज़ अपने दिल की आवाज़ लगते हैं और मेरे लिखने का उत्साह बढ़ जाता है ।शुक्रिया आप सभी दोस्तों का इस सफर का हमसफ़र बनने के लिए ।आज उनका लिखा एक और यादगार ख़त चंद लफ़्ज़ों में @रंजू भाटिया
जीती!
यह मेरी ज़िन्दगी की सड़क कैसी है,जिसके सारे मील के पत्थर हादसों  के बने हुए हैं ।तुम थे तो घर नहीं था ।आज घर है तो तुम नहीं हो  थोड़े से मीलो की दूरी होती है ,पर एक कानून की छोटी सी मोहर उसे दूसरी दुनिया की दूरी बना देती है ।मैं अजीब तरह से परेशान हूँ और ऐसा लग रहा है जैसे यह बेचनी मेरी उम्र जितनी लम्बी है ,या मेरी उम्र का नाम ही बैचनी है ।
29 .3.62
आशी

Post a Comment