Saturday, February 01, 2014

जुस्तजू

क्या फिर से मौसम बहारों का आयेगा,
जिसकी जुस्तजू है वो फिर कभी ना आयेगा।

तन्हा तन्हा सी है क्यों ये जिंदगी की शाम
क्या कोई फिर से जीवन में बसंत लायेगा।

अब कोई ना करे मुझ पर निगाहें करम,
अरमानों का दम खुद ही घुट जायेगा।

मेरे मिटने का उनको जरा भी गम ना होगा,
क्या कोई फिर से खुशियों की सौगात लायेगा।

12 comments:

Safarchand said...

अब तो बहारो का आना जाना देखो
जुस्तजू छोड़ के नाया ज़माना देखो
जो बीत गया सो बीत गया
अब नए फूलों का खिलखिलाना देखो !
--- ईमानदार अभिव्यकि, अति सुंदर काव्य शिल्प,प्रयोगवादी युग की गज़ल और कविता की उत्तम मिला..बधाई ! लेकिन लिखने वाला या वाली बेचती नहीं;आप अपना ध्यान लिखने पे ही रखे--छपास,और बाज़ार के चक्कर में आपकी कलम तराजू बन के रह जायेगी--- इसलिये सिर्फ लिखो और पढ़ो ...उपदेश के लिए सारी !

Safarchand said...

अब तो बहारो का आना जाना देखो
जुस्तजू छोड़ के नाया ज़माना देखो
जो बीत गया सो बीत गया
अब नए फूलों का खिलखिलाना देखो !
--- ईमानदार अभिव्यकि, अति सुंदर काव्य शिल्प,प्रयोगवादी युग की गज़ल और कविता की उत्तम मिला..बधाई ! लेकिन लिखने वाला या वाली बेचती नहीं;आप अपना ध्यान लिखने पे ही रखे--छपास,और बाज़ार के चक्कर में आपकी कलम तराजू बन के रह जायेगी--- इसलिये सिर्फ लिखो और पढ़ो ...उपदेश के लिए सारी !

expression said...

बहारें फिर भी आयेंगी......
उम्मीद का दाम थामे रखें हम बस....

सुन्दर ग़ज़ल..

अनु

मिश्रा राहुल said...

काफी उम्दा प्रस्तुति.....
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (02-02-2014) को "अब छोड़ो भी.....रविवारीय चर्चा मंच....चर्चा अंक:1511" पर भी रहेगी...!!!
- मिश्रा राहुल

प्रवीण पाण्डेय said...

वाह, बहुत सुन्दर

अजय कुमार झा said...

अच्छी कविता और सुंदर भाव

jyoti khare said...


बहुत मनभावन रचना
बसंत पंचमी की अनंत हार्दिक शुभकानाएं ---
उत्कृष्ट प्रस्तुति
बधाई -----

आग्रह है--
वाह !! बसंत--------

Digamber Naswa said...

मन खुश हो तो खुशियाँ अपने आप चली आती हैं ... लाजवाब अभिव्यक्ति ...

Rakesh Singh said...

Very nice blog you have...Keep positing...
Tender Dekho provides you best & Complete list of Tenders in Delhi, Tenders in India, Government tenders, Private Sector tenders, Corporate Tender, and also provides tender Subscription facilities.
Thanks

Anonymous said...

Hi, Am from Pakistan... was jus browsing through blogs and saw your one.. but everything total in hindi... saw the pattern of writing and thought it could be poetry, the way lines and spaces are ... so changed it through google translater both in Eng and Urdu.. and there was your poetry.... and not simple poetry, your creativity is really awesome, the way you feel the life and tell other , I really like it. so was forced to leave a comment here... Good Work. Stay Blessed... From Pakistan.

facebook.com/cuteheart88

Anonymous said...

and it took me very long to leave the comment after 3, 4 tries.... coz after i clicked on comment button, next page opens and thats not giving option to change language :)

Jain Nath said...

This post is a very apt about your blog. Wonderful language and detailed presentation. We like this mode of presentation. Please visit Jewellers in Trivandrum. This is a collection of all Trivandrum City Information. A complete guide for all kinds of people. Visit and say your comments.