Saturday, June 08, 2013

वर्जित यादें

कुछ लफ्ज़ ज़िन्दगी के
सिर्फ खुद से ही पढ़े जाते हैं
वही लफ्ज़ जो दिल की गहराइयों में
दबे गए कभी सोच कर
कभी भूल से
जैसे ...........
कुछ भूली हुई सभ्यताएं
जो  नजर आती है
सिर्फ जमीनों के खोदने से
ठीक वैसे ही
"कुछ यादें  "जो दबी हैं
ज़िन्दगी के उन पन्नो में
जो वर्जित है सच जानने से पहले
दुनिया की नजरों में आना
और वो पन्ने पढ़े हैं सिर्फ उन्ही ने
जो जानते हैं  कि
" कहाँ क्या दफ़न हुआ था ?"

Post a Comment