Thursday, September 01, 2011

यूँ दिल के एहसासो को

 
 
 
 
यूँ  दिल के एहसासों  को गीतो में ढाल लूंगी
मिली थी जब तुमसे उस पल को बाँध लूंगी


वक़्त की रफ़्तार थमने ना पाए अब
इन जीवन की उलझनो में कुछ सुलझने सँवार लूंगी

लावे सी पिघल कर बह क्यों  नही जाती है यह ख़ामोशी
ख़ुद को ख़ुद में समेटे कब तक यूँ तन्हा मैं चलूंगी

कुछ सवाल हैं सुलगते हुए आज भी हमारे दरमियाँ
कुछ दर्द ,कुछ आहें दे के इनको फिर से दुलार लूंगी

दे दिया अपना सब कुछ तुझे तन भी और मन भी
अब कौन सी कोशिश से अपने बिखरे वजूद को निखार लूंगी

काटता नही यह सफ़र अब यूँ ही बेवजहा गुज़रता हुआ
एक दास्तान फिर से तुझसे ,अपने प्यार की माँग लूंगी!!

मत बांधो प्यार को किसी रिश्ते की सीमाओं में
बस एक तेरे नाम पर अपना यह जीवन गुज़ार लूंगी

बहुत थक चुकी हूँ अब कही तो सकुन की छावँ मिले
अपने इन रतज़गॉं को अब तेरे सपनो से बुहार लूंगी !!
 
Post a Comment