Sunday, May 06, 2007

एक कामकाज़ी पत्नी की दास्तान



आज की नारी घर और बाहर दोनो मोर्चो को बख़ूबी संभाल रही है
मेरी छोटी बहन भी इसी श्रेणी में आती है ...मेरी कविता पढ़ पढ़ के
एक दिन उसको भी जोश चढ़ा और अपनी पीड़ा उसने कुछ इन लफ़्ज़ो में बयान करी:)


पुरुष होने का सिला उन्होने एक शब्द में जतला दिया
प्यार भारी ज़िंदगी का यह उन्होने सिलसिला दिया
मैं तो मौन रहता हूँ प्रिय,ना तुमको कुछ कहता हूँ
एक बीबे पति की तरह हर बात तुम्हारे सहता हूँ


कितने सुंदर शब्द हैं यह जो सुने मेरी किस्मत पर रश्क़ करे
पर यही चार शब्द मेरी आत्मा को घायल कर गये
की तुम तो मौन रह कर देवता हो गये
कुछ अत्याचार ना कर पाए इस लिए "बीबे" हो गये

पर आज में तुमसे पूछती हूँ की मेरे
किस कसूर पर तुम मुझसे कुछ कहना चाहते हो
सुबह सबसे जल्दी उठ कर
बच्चो को स्कूल भेजना मेरा कसूर था???
नौकरी करके तुम्हारे हाथ बाँटना कसूर था???
घर आ के दुबारा चकारी करना कसूर था???
सुबह शाम अपने आप को घर पर समर्पित करना कसूर था?

हाँ अगर यह कसूर है तो मत दबाओ अपनी भावनाओ को
मत रहो चुप और मत बनो देवता ..
कुछ तीखी तीखी बातें मुझे सुनाओ
और हो सके तो हाथ भी तुम मुझ पर उठाओ
शायद तभी तुम कह सखोगे तुमने पति धर्म निभाया है
और एक असली पति बन कर ज़िंदगी का रस पाया है

हेरानी होती है तुम्हारे दोगले विचारों पर
एक तरफ़ तो कहते हो पत्नी अर्धागनी होती है
पर असल में तो यह बाते सिर्फ़ एक छलावा हैं
पत्नी के रूप में मुफ़्त में आया को पाया है

महीने की तनख़्वाह दुगनी हुई है
पर पुरुषतव में कही कमी नही हुई है
जो पत्नी दिन रात घर बाहर ख़त कर दिन अपने बिताती है
सारी दुनिया में वही सबसे तेज़ तरार जानी जाती है
पति जो कभी कभी घर रहता है
घर की चिंताओं से बेख़बर रहता है
अतिथि सा सतकार पा कर मौन रहता है
पर वही सबकी नज़रो में " बीबा " समझा जाता है

वाह री दुनिया तेरा यही दस्तूर
पति यहाँ का राजा .
और पत्नी हर दम मजबूर है
पति देवता गिना जाएगा
और पत्नी चरणो की दासी
पर मेरी जैसी पत्नी पा कर
हो जाएगी तुम्हारी एसी टेसी
ना ज़ुल्म करा है ना ज़ुल्म साहूँगी
प्यार से अपना बनाया तो
जान भी अपनी दे दूँगी
पुरुष होने का जो अहम निभाया
तो नाको चने चबवा दूँगी
शिक्षा दीक्षा के हर मुकाम पर
तुमसे मेने बढ़त पाई है
"बीबे" तो अब तुम क्या बनोगे
सही अर्थों में अब "बीबी" बनने की बारी अब मेरी आई है


बीबा ...एक पंजाबी लफ्ज़ है जिसका अर्थ सीधा होता है ..

पूनम भाटिया द्वारा लिखित...
Post a Comment