Saturday, April 28, 2007

ख्वाबो की हक़ीकत



1.तुम भी भावनाओ मैं जीते हो,
इसका अहसास तब हुआ मुझको.
जब गीने दिन तुमने हमारी मुलाक़ातो के,
प्यार के, बातो के, और उन सपनो के...
जो सच नही होने थे शायद..............?
**************************************

2,यह पत्थरो का शहर हैं यहाँ ख्वाबो को तलाश मत करना
होंठो पर खिलते गुलाब देख कर कोई पेगाम ख़ुशी का ना समझ लेना
सिर्फ़ झूठी तसलियो में यहाँ कटती है ज़िंदगी हर किसी की
आईना है हर चेहरा यहाँ किसी की आँखो में भी झाँक लेना !!
*******************************************************
3. जो बात ज़ुबान से कही ना जाए
वह आँखो से बयान होती है

एक पल भी मिले कोई सकुन की छाँव इस दिल को
उस पल में ख्वाबो की हक़ीकत मालूम होती है

क्यूं उदास उदास सा है यह समा आज भी
मेरे दर्द की दास्तान क्यूं ऐसे मशहूर होती है !!
******************************************************

4.मुझे कब चाह थी की मुझे यह चाँद मिले आसमान मिले
बस एक तमन्ना रही की मुझे मेरे सपनो का जहाँ मिले

जीए हम अपनी ज़िंदगी को कुछ ऐसे भी कभी कभी
कही ग़म के साये तो कही राही ही अनजान मिले

रंज़- ओ ग़म की रात कटती ही नही है मेरी
अब तो देखने को मेरी इन सूनी आँखो को हसीन ख़वाब मिले!!
********************************************************
5. कब गुज़रा था दिन कब रात बीत गयी
बात दिल की थी दिल से हो कर गुज़र गयी

मंज़िल तलाशते रहे हम उमर भर
मुलाक़ात से पहले ही बात जुदाई की हो गयी

तलाशते रहे हम ख़ुशी को उमर भर
ख़ाली ख़ाली यह नज़र वापस मुझ तक ही लौट गयी

*******************************************************
6. निकले थे घर से अपनी प्यास बुझाने के लिए
ले के किसी समुंदर का पता
पर कभी उसके साहिल तक को छू भी ना पाए
हाथ में आई सिर्फ़ रेत मेरे
और लबो पर आज तक है अनबुझी किसी प्यास के साये !!
*******************************************************
Post a Comment