Monday, April 01, 2013

मूर्ख दिवस

मूर्ख दिवस

बहुत दिन हुए एथेंस नगर में चार मित्र रहते थे इनमें से एक अपने को बहुत बुद्धिमान समझता था और दूसरों को नीचा दिखाने में उसको बहुत मज़ा आता था एक बार तीनों मित्रों ने मिल कर एक चाल सोची और उस से कहा कि कल रात हमे एक अनोखा सपना दिखायी दिया सपने में हमने देखा की एक देवी हमारे समाने खड़ी हो कर कह रही है कि कल रात पहाडी की चोटी पर एक दिव्य ज्योति प्रकट होगी और मनचाहा वरदान देगी इसलिए तुम अपने सभी मित्रों के साथ वहाँ जरुर आना

अपने को बुद्धिमान समझने वाले उस मित्र ने उनकी बात पर विश्वास कर लिया और निश्चित समय पर पहाड़ की चोटी पर पहुँच गया साथ ही कुछ और लोग भी उसके साथ यह तमाशा देखने के लिए पहुँच गए . और जिन्होंने यह बात बताई थी वह छिप कर सब तमाशा देख रहे थे .धीरे धीरे भीड़ बढ़ने लगी और रात भी आकाश में चाँद तारे चमकने लगे पर उस दिव्य ज्योति के कहीं दर्शन नही हुए और न ही उनका कहीं नामो निशान दिखा

कहते हैं उस दिन १ अप्रैल था बस फ़िर तो एथेंस में हर वर्ष मूर्ख बनाने की प्रथा चल पड़ी बाद में धीरे धीरे दूसरे देशों ने भी इसको अपना लिया और अपने जानने वाले चिर परिचितों को १ अप्रैल को मूर्ख बनाने लगे इस तरह "मूर्ख दिवस"का जन्म हुआ

अप्रैल के मूर्ख दिवस को रोकने के लिए यूरोप के कई देश समय समय पर अनेक कोशिश हुई परन्तु लाख विरोध के बावजूद यह दिवस मनाया जाता रहा है अब तो इसने एक परम्परा का रूप ले लिया| इस दिवस को मनाने वाले कुछ लोगों का कहना है कि इस को हम इसलिए मनाते हैं ताकि मूर्खता जो मनुष्य का जन्मजात स्वभाव है वर्ष में एक बार सब आज़ाद हो कर हर तरह से इस दिवस को मनाये हम लोग एक बंद पीपे जैसे हैं जिस में बुद्धि निरंतर बहती रहती है उसको हवा लगने देनी चाहिए ताकि वह सहज गति से इसको चलने दे तो ठीक रहता है

कहते हैं एक बार हास्य प्रेमी भारतेंदु हरिश्चन्द्र ने बनारस में ढिंढोरा पिटवा दिया कि अमुक वैज्ञानिक अमुक समय पर चाँद और सूरज को धरती पर उतार कर दिखायेंगे .नियत समय पर लोगों की भीड़ इस अदभुत करिश्मे को देखने को जमा हो गई घंटो लोग इंतज़ार में बैठे रहे परन्तु वहाँ कोई वैज्ञानिक नही दिखायी दिया उस दिन १ अप्रैल था लोग मूर्ख बन के वापस आ गए !!

यह कहानी मुझे हर साल एक अप्रैल पर याद आ जाती है .....और सुना देती हूँ ..:) वैसे अपने कालेज टाइम में मेरे दोस्त मुझे "आधी मूर्ख "कहते थे (हरकते ही ऐसी थी ) अब भी हैं कोई कमी नहीं है ) :) क्यों कि जन्मदिन मेरा १४ अप्रैल को आता है (pliz note... ( gift teyaar rakhe ) ..इस लिए महीने के असर बना रहता है ...और बना भी रहना चाहिए ...दुनिया में बहुत से बुद्धिजीवी हैं ..अक्लमंद है ..और वो हैं तो हम जैसे बेवकूफी वाली हरकतों को करने की वजह से ही न ..क्यों झूठ कहा क्या मैंने :) ...:)प्यार देते हैं प्यार लेते हैं और मस्त रहते हैं :) हैप्पी अप्रैल फूल ...एन्जॉय दिस डे विद फुल hanste muskarate :)

13 comments:

दिगम्बर नासवा said...

अच्छा लगा इस दिवस के बारे में जानना ...
ओर सच है एक दिन तो ऐसा होना चाहिए की दिमाग को आज़ाद कर सको ...

Maheshwari kaneri said...

बहुत बढ़िया..

Rajesh Kumari said...

आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगल वार2/4/13 को चर्चा मंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका वहां स्वागत है

Kalipad "Prasad" said...

अच्छा लगा इस दिवस के बारे में जान कर
.वैसे मुर्खता में आनंद भी है ,फ़ायदा भी.
latest post कोल्हू के बैल
latest post धर्म क्या है ?

प्रवीण पाण्डेय said...

हमें तो लोग रोज १ अप्रैल बना देते हैं।

वाणी गीत said...

बुद्धिमानों के बोझ से दुनिया भारी हुई जा रही है , संतुलन के लिए कुछ मूर्खता भी जरुरी है !

Arvind Mishra said...

जन्मदिन की अग्रिम शुभकामनाएं :-)

Rajendra Kumar said...

बेहतरीन संदेस कहानी के माध्यम से.

shikha varshney said...

बहुत बढ़िया :) आपका जन्म दिन याद रखेंगे .

सदा said...

वाह ... बहुत खूब
जन्‍मदिन की बहुत-बहुत बधाई 12 दिन पहले से ....
सादर

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बढ़िया जानकारी देती पोस्ट ....

Sitaram Prajapati said...

Bahut achha laga murkh diwas ke bare me jankar......

संजय भास्‍कर said...

बढ़िया जानकारी