Saturday, September 29, 2012

शौक

एक दिन
तुमने बातों बातों
में बताया था कि
तुम्हे ..
बचपन से शौक था
तुम्हारा

 खुद के बनाये 
मिटटी के
खिलौनों से खेलना
और फिर उनको
खेल के तोड़ देना

आज भी तुम्हारा

वही खेल जारी है
बस खेलने
और खिलौनों के
वजूद बदल गए हैं |........
रंजू ..........
Post a Comment