Thursday, December 31, 2009

झूमता हुआ नया साल फ़िर आया....


नया साल
एक नई आशा
नई उम्मीद जगाता हुआ
कलेंडर के पन्नों पर
उतर आता है
और कुछ दिन तो
अपने नयेपन के एहसास से
कुछ तो अलग रंग दिखाता है....

फिर ढलने लगते हैं लम्हे
वक़्त यूँ ही गुजरता जाता है ....
कुछ नया होने की आस में
यह जीवन यूँ ही बीतता जाता है

नए साल की सबको बहुत बहुत बधाई ......इस नए साल की शुरू आत इस बार एक बाल पत्रिका में पब्लिश हुई बाल कविता से ...आने वाला नया साल यूँ ही किसी बच्चे सा मासूम हो ,सबके लिए मंगलमय हो ..इसी दुआ के साथ ...

झूमता हुआ फ़िर से नया साल आया
खुशियों की नई सौगात यह लाया


बीते पल को दे अब हम विदाई
नए पलों को यह दिखाने को लाया
झूमता हुआ नया साल फ़िर आया


सब तरफ़ अब हटे
अन्धकार का अँधेरा
बिखरें किरणे दिनकर की
नया हो सवेरा ..
कुदरत ने भी गीत नया गया
झूमता हुआ नया साल फ़िर से आया

नव बीज से नया भारत हम बनाएं
जाति धर्म का हर भेद मिटायें
मानव धर्म को सब अपनाएँ
यही संदेश दिल ने फिर दोहराया
झूमता हुआ नया साल फ़िर से आया

रंजना (रंजू ) भाटिया

34 comments:

श्यामल सुमन said...

नये साल की नव किरणों से बँधी खूब है आस।
इस रचना में आपने आस जगायी खास।।

सादर
श्यामल सुमन
09955373288
www.manoramsuman.blogspot.com

अल्पना वर्मा said...

दोनो कविताएँ बहुत अच्छी लगीं.
नववर्ष मंगलमय हो !

संजय भास्कर said...

हर रंग को आपने बहुत ही सुन्‍दर शब्‍दों में पिरोया है, बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

संजय भास्कर said...

बहुत खूब, लाजबाब ! नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाये !

राज भाटिय़ा said...

दोनो कविताये बहुत ही अच्छी लगी, नये सल का संदेश देती.
आप को ओर आप के परिवार को नववर्ष की बहुत बधाई एवं अनेक शुभकामनाएँ!

दिगम्बर नासवा said...

आमीन .......... बहुत अच्छी रचना से नये साल का स्वागत किया है आपने ........

आपको और आपके पूरे परिवार को नये साल की बहुत बहुत शुभकामनाएँ ........
नया साल आपके लिए नयी नयी खुशियाँ ले कर आए ..... आप नयी नयी उचाईयों को छुए .....

दिगंबर

संगीता पुरी said...

नए उमंग , नई आशा जगाती बहुत सुंदर रचना .. नए वर्ष की शुभकामनाएं !!

shikha varshney said...

dono kavitayen behtareen hain...navvarsh ki samstshubhkaamnaon ke saath

रश्मि प्रभा... said...

आमीन !

नए साल की नज्में
शुभकामनाओं के मलयानिल से
आरत्रिका की तरह आई हैं
हर किरणों में स्नेहिल दुआएं -
तुम्हारे लिए !
नया साल
तुम्हें तुम्हारी पहचान दे
पहचान को सलामत रखे
आतंक के साए को दूर करे
रग- रग में विश्वास भर जाये
खूबसूरत सपने
हकीकत में ढल जाएँ
जो पंछी अपने बसेरे से भटक गए हैं
वे लौट आयें
कहीं कोई द्वेष की चिंगारी ना रहे
ठंडी हवाएँ उन्हें शांत कर जाएँ
मुस्कानों की सौगातों से
सबकी झोली भर जाये............
आओ मिलकर कहें -
; आमीन '...

ताऊ रामपुरिया said...

बहुत सुंदर रचनाएं. नये साल की घणी रामराम.

रामराम.

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

सुंदर कविताएँ!

नव वर्ष आप को भी सपरिवार मंगलमय हो!

वन्दना said...

nav varsh mangalmay ho.

जी.के. अवधिया said...

बहुत सुन्दर कविताएँ हैं!

नववर्ष आपके लिये मंगलमय हो!

Truth or Dare said...

बहुत सुन्दर happy new year 2010

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

साइंस ब्लॉगर्स असोसिएशन अवार्ड और नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ।
--------
पुरूषों के श्रेष्ठता के जींस-शंकाएं और जवाब।
साइंस ब्लॉगर्स असोसिएशन के पुरस्‍कार घोषित।

sangeeta swarup said...

बहुत खूब....सुन्दर रचनाएँ...

नव वर्ष की शुभकामनायें

समयचक्र said...

आपको और आपके परिजनों मित्रो को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाये...

समयचक्र said...

हिंदी भाषा के प्रचार प्रसार में प्रभावी योगदान के लिए आभार
आपको और आपके परिजनों मित्रो को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाये...

anjana said...

बढ़िया बधाई रंजना जी ,ओर नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाये |

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

अति सुन्दर सन्देश देती रचनाऎँ!!
आपको भी सपरिवार नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाऎँ!!!!!

हिमांशु । Himanshu said...

बेहतरीन कवितायें !
आपको व आपके परिवार को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं।

डॉ. मनोज मिश्र said...

वर्ष नव-हर्ष नव-उत्कर्ष नव
-नव वर्ष, २०१० के लिए अभिमंत्रित शुभकामनाओं सहित ,
डॉ मनोज मिश्र

अनामिका की सदाये...... said...

JIS TAREH K SUNDER SHABDO SE AAPNE NAYE SAAL KI KAAMNA KI HAI PRARTHNA HAI USI SUNDARTA KO MANOHARTA KO YE NAYA SAAL APNAYE RAKHEGA. AAMEEN.

सुरेन्द्र "मुल्हिद" said...

nav varsh aapke aur aapke parivaar ke liye shubh ho...

happy new year 2010

प्रकाश पाखी said...

दोनों कविताएँ नव वर्ष का मान भावन तोहफा लगी.
नव वर्ष की शुभकामनाएं और आभार!
प्रकाश पाखी

राजकुमार ग्वालानी said...

आप और आपके परिवार को नववर्ष की सादर बधाई
नव वर्ष की नई सुबह

वाणी गीत said...

नव वर्ष की बहुत शुभकामनायें ...!!

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

नव वर्ष की अशेष कामनाएँ।
आपके सभी बिगड़े काम बन जाएँ।
आपके घर में हो इतना रूपया-पैसा,
रखने की जगह कम पड़े और हमारे घर आएँ।
--------
2009 के ब्लागर्स सम्मान हेतु ऑनलाइन नामांकन
साइंस ब्लॉगर्स असोसिएशन के पुरस्कार घोषित।

Arvind Mishra said...

नया साल
एक नई आशा
नई उम्मीद जगाता हुआ
बिलकुल, अहर्निश शुभकामनाएं!

प्रवीण त्रिवेदी ╬ PRAVEEN TRIVEDI said...

हैप्पी न्यू इयर -२०१०

नये साल में रामजी, इतनी-सी फरियाद,
बना रहे ये आदमी, बना रहे संवाद।
नये साल में रामजी, बना रहे ये भाव,
डूबे ना हरदम, रहे पानी ऊपर नाव ।
नये साल में रामजी, इतना रखना ख्याल,
पांव ना काटे रास्ता, गिरे न सिर पर डाल।
नये साल में रामजी, करना बेड़ा पार,


क्या-क्या चाहते हैं, क्या-क्या सोचते हैं, क्या फरियाद है हमारी हमारे राम से - कवि ’कैलाश गौतम’ की रचना http://ramyantar.blogspot.com/2010/01/blog-post.html

सुशील कुमार छौक्कर said...

दोनों ही कविताएं पसंद आई। देर से नये साल की हार्दिक शुभकामनाएँ।

pallavi trivedi said...

सुंदर कविताएँ!

happy new year...

संजय भास्कर said...

बहुत खूब....सुन्दर रचनाएँ...

नव वर्ष की शुभकामनायें

दिगम्बर नासवा said...

रंजना जी ........... पिछले ६-७ दिनो से बाहर था इसलिए आपको नव वर्ष की शुभकामनाएँ अब दे रहा हूँ ........ बहुत ही आशा और उमीद भारी रचना से स्वागत किया है आपने नव वर्ष का ............. पुनः हार्दिक शुभकामनाएँ .......