Saturday, March 17, 2007

मेरे जीवन का दिन ना बीते बिन तुम्हारे


उड़ जाउं दूर कही आसमा में.
पंख फैलाए अपने साथ तुम्हारे,
देखे चाँद को छूकर ,बदलो पर चलकर..
और गोदी में भर लू सारे सितारे''

साथ सदाए हो खुदा की
ना कोई बंदिश हो ना ही हो कोई पहरा
और सामने रहे मेरे सिर्फ़ तुम्हारा चेहरा

देखती रहूं उसे में यूँ ही ,जब तक जब तक ना हो मौत का सवेरा
तेरी बाहों में मरने को इस मौसम में दिल चाहता है अब यह मेरा

गुलो से एह महका सा समा करता है क्या इशारे
अब कोई भी मेरे जीवन का दिन ना बीते बिन तुम्हारे
Post a Comment