Sunday, April 29, 2012

रिश्ते

रिश्ते
रोड पर लगे नियोन साइन से
कभी जलते कभी बुझते
कभी रंग बदलते
पर हमेशा लुभाते
फरिश्ते से
रिश्ते
दर्द में रिसते
पल पल को तरसते
मिल के भी नही मिलते
जाने कैसे हैं इस के रस्ते.


गहराई में डूबे हुए
सम्पूर्ण रिश्ते
अक्सर बेनाम ही होते हैं
न जाने फ़िर क्यों जरुरी होता है
इनको कोई नाम देना ..
Post a Comment