Tuesday, February 02, 2010

आज का सच


आज का जन्म

पैदा होते ही
माँ के सीने से लिपटा
पर उसके दूध से दूर
बोतल और बाल आहार पर पलता
खोल के नन्ही आंखें
बिटर-बिटर दुनिया को तकता
बनूँगा इस आहार पर ही
ताकतवर
हगीज़ पहन कर भी
ख़ूब है हँसता

आज का बचपन

डगमगाते कदमो से
सूरज के संग खोल के आंखें
हाथ थाम के चलने की जगह
पेंसिल की नोक घिसता
नर्सरी कविता को
बिना समझे
अंग्रेजी में रटता

जीत लूँगा इस दुनिया को
यही सपना बचपन से पलता
माँ-बाप की अभिलाषा को
अपने जीवन का सच समझता



आज का टीनएजर

हैरी पॉटर के कारनामों में गुम
एक नई दुनिया बुनता, रचता
एम टी वी, एकता कपूर की कहानी में
मटकता ,भटकता .बहकता
जीवन का सत्य तलाश करता

या देख के रोज़ नई विज्ञान की बातें
एक दिन करुंगा मैं भी कुछ
यह वादा ख़ुद से करता
देख सुनीता कल्पना को
चाँद पर रोज़ सपने में उतरता



आज का युवा

आक्रोश बेरोजगारी
और लाचारी
इन सब से तंग आ कर
बसे फूंकता, नारे लगता
कुछ नही रखा यहाँ
विदेशी नौकरी
करके अपना जीवन
कॉल सेंटर कल्चर
अपनाता

आज का बुढापा

अकेली आंखो में सपने प्रवासी
जिन्दगी में है बस एक उदासी
अकेले कब तक बच्चो की राह निहारे
हर पल एक डर, और मौत भी नही आती…

रंजना (रंजू ) भाटिया
Post a Comment